निःशुल्क इनफर्टिलिटी ओपीडी कैम्प में निःसंतान दम्पत्तियों ने पाया परामर्श

mahilaon ko paramarsh detin dr surekha chowdhry

अलीगढ़ 18 सितंबर। “ लगातार बिगड़ती जीवन शैली से जहां एक ओर महिलाऐं बांझपन की ओर अग्रसर हो रही हैं, तो दूसरी ओर पुरूष भी बांझपन में बराबर की भूमिका निभा रहे हैं। ” उक्त बातें वरिष्ठ आइवीएफ व स्त्रीरोग विशेषज्ञ डाॅ सुरेखा चौधरी ने शांति नर्सिंग होम टेस्ट ट्यूब बेबी सेंटर में आयोजित निःशुल्क इनफर्टिलिटी ओपीडी कैम्प में कहीं। कैम्प में डाॅ सुरेखा चैधरी ने 50 से अधिक महिलाओं व उनके पतियों की जांच कर बांझपन पर निःशुल्क सलाह प्रदान की। साथ ही कैम्प में शुक्राणु की जांच निःशुल्क, इनफर्टिलिटी की जांच व बच्चेदानी के मुंह की जांच अत्याधुनिक मशीन के माध्यम से बहुत मामूली रियायती दरों पर की गई। डाॅ सुरेखा चौधरी ने बताया कि “ अब निःसंतान होना कोई अभिशाप नहीं है। आईवीएफ यानि टेस्ट ट्यूब तकनीकि से बच्चे का सुख प्राप्त किया जा सकता है। निःसंतानता के लिए ऐसा नहीं है कि मात्र महिला इसके लिए जिम्मेदार है, बल्कि पुरूष भी उतना ही जिम्मेदार है। इलाज के द्वारा महिला या पुरूष की समस्या को दूर कर घर के आंगन में किलकारी गूंज सकती है। ” उन्होंने बताया कि “ निःशुल्क इनफर्टिलिटी कैम्प का आयोजन हर माह के दूसरे शनिवार को प्रातः 9 से 12 बजे तक किया जायेगा। आगामी 14 अक्टूबर को भी कैम्प लगेगा, जिसके लिए पंजीकरण जारी रहेंगे। “ इस दौरान डाॅ शुगुफ्ता जुबैरी, डाॅ कल्पना बघेल, अरीना खान, हेमा सिंह, निधि, सोनी , डैजी आस्तिन उपस्थित थे।